बिना दवा मधुमेह का प्रभावशाली उपचार

बिना दवा मधुमेह का प्रभावशाली उपचार

 

मधुमेह का कारणः 

 शरीर को स्वस्थ रखने एवं समुचित विकास हेतु भोजन में अन्य तत्त्वों के साथ संतुलित प्रोटीन, वसा तथा कार्बोहाइट्रेड आदि तत्त्वों की विशेष आवश्यकता होती है। जब इनमें से कोई भी या सारे तत्त्व शरीर को संतुलित मात्रा में भोजन में नहीं मिलते अथवा शरीर उन्हें पाचन के पश्चात् पूर्ण रूप से ग्रहण नहीं कर पाता तो शरीर में विविध रोग होने लगते हैं। इंसुलिन की कमी के कारण जब शरीर कार्बोहाइट्रेड को ग्लूकोज के रूप में अपने अन्दर नहीं समा सकता तथा उसका भलीभांति उपयोग नहीं कर पाता तो मधुमेह का रोग हो जाता है। मानसिक तनाव, शारीरिक श्रम का अभाव, गलत खानपान अथवा पाचन के नियमों का पालन करने से और अप्राकृतिक जीवन शैली इस रोग के मुख्य कारण होते हैं। कभीकभी यह रोग वंशानुगत भी होता है।

मधुमेह क्या है?

 शरीर में पेंक्रियाज एक दोहरी ग्रन्थि होती है जो पाचन हेतु पाचक रस और इंसुलिन नामक हारमोन्स को पैदा करती है। इंसुलिन भोजन में से कार्बोहाइड्रेट्स का पाचन कर उसको ग्लूकोज में बदलती है। कोशिकाएँ ग्लूकोज के रूप में ही पोष्टिक तत्त्वों को ग्रहण कर सकती हैं, अन्य रूप में उनको शोषित नहीं कर सकती। इंसुलिन रक्त में ग्लूकोज की मात्रा का भी नियन्त्रण करती है। ग्लूकोज रक्त द्वारा सारे शरीर में जाता है तथा कोशिकाएँ उसको ग्रहण कर लेती हैं, जिससे उनको ताकत मिलती है। ग्लूकोज का कुछ भाग यकृत ग्लाइकोजिन में बदल कर अपने पास संचय कर लेता है, ताकि आवश्यकता पड़ने पर उसे पुनः ग्लूकोज में बदल कर कोशिकाओं के लिये उपयोगी बना सके। शरीर की स्वस्थ अवस्था में ग्लूकोज को शरीर के विभिन्न अंगों में वसा (Fats) अथवा चर्बी के रूप में भी रखा जा सकता है। पाचन तंत्र की गड़बड़ी के कारण अथवा भोजन में शर्करा की मात्रा ज्यादा होने के कारण, अधिक इंसुलिन की आवश्यकता होती है। कभीकभी पेन्क्रियाज ग्रन्थि के बराबर कार्य करने पर भी इंसुलिन की आवश्यक मात्रा का निर्माण नहीं होता।

 इंसुलिन की कमी के कारण पाचन क्रिया के पश्चात् आवश्यक मात्रा में ग्लूकोज नहीं बनता और कार्बोहाइड्रेट्स तत्त्व शर्करा के रूप में ही रह जाते हैं जिसके परिणामस्वरूप जिनजिन कोशिकाओं को ग्लूकोज नहीं मिलता वे निष्क्रिय होने लगती हैं। उनकी कार्य क्षमता कम होने लगती है, जिससे प्रायः भूख और प्यास अधिक लगती है।

मधुमेह के दुष्परिणामः

 शरीर में लगातार अधिक शर्करा रहने से अनेक जैविक क्रियाएँ प्रभावित हो सकती हैं। अधिक मीठे रक्त से रक्त वाहिनियों की दीवारें मोटी हो जाती हैं और उसका लचीलापन कम होने लगता है। रक्त का प्रवाह बाधित हो सकता है। जब यह स्थिति हृदय में होती है तो हृदयघात और मस्तिष्क में होने पर पक्षाघात हो सकता है। पिण्डलियों में होने पर वहां भयंकर दर्द तथा प्रजनन अंगों पर होने से प्रजनन क्षमता प्रभावित हो सकती है।

 रक्तवाहिनियों के बाधित प्रवाह से पैरों में संवेदनाओं में कमी सकती है तथा जाने अनजाने मामूली चोट भी घाव जल्दी भरने के कारण गम्भीर रूप धारण कर सकती है। शरीर के सभी अंगों को क्षमता से अधिक कार्य करना पड़ सकता है, जिससे पैरों में कंपन, स्वभाव में चिड़चिड़ापन, तनाव आदि के लक्षण प्रकट हो सकते हैं। संक्षेप में प्रभावित कोशिकाओं से संबंधित रोग के लक्षण प्रकट होने लगते हैं।

शरीर में इंसुलिन की आवश्यकता को कैसे नियन्त्रित किया जा सकता है?

 मधुमेह का रोग शरीर में पेंक्रियाज ग्रन्थि के बराबर कार्य करने से होता है। परन्तु पेंन्क्रियाज बराबर कार्य क्यों नहीं करता? क्या वास्तव में पेंक्रियाज इंसुलिन कम बनाता है? क्या जो इंसुलिन बनता है उसका हम पूर्ण सदुपयोग करते हैं? कहीं तनाव अथवा अप्राकृतिक जीवन शैली तथा पाचन के नियमों का पालन करने से हमें आवश्यकता से अधिक मात्रा में इंसुलिन की आवश्यकता तो नहीं होती है?

 पेंक्रियाज रोग ग्रस्त क्यों होता है? उसके रोग ग्रस्त होने से कौन से अंग अथवा अवयव प्रभावित होते हैं? पेंक्रियाज के कार्य को सहयोग देने वाले शरीर में कौनकौन से अंग, उपांग, ग्रन्थियाँ और तंत्र होते हैं? पेंक्रियाज की क्षमता को कैसे बढ़ाया जा सकता है? यदि इन अंगों को सक्रिय कर दिया जाये तथा पेन्क्रियाज की कार्य क्षमता बढ़ा दी जाए, पाचन में इंसुलिन का जो अनावश्यक दुरुपयोग करते हैं अर्थात् जो कार्य बिना इंसुलिन अन्य अवयवों द्वारा किए जा सकते हैं, कराये जाये तो समस्या का समाधान हो सकता है।

 आधुनिक चिकित्सक मधुमेह को असाध्य रोग मानते हैं परन्तु उनका कथन शतप्रतिशत ठीक नहीं होता है। मात्र पेंक्रियाज द्वारा पर्याप्त मात्रा में इंसुलिन बना सकने के कारण बाहर से इंसुलिन देना समस्या का सही समाधान नहीं हो सकता? यह तो फूटे घड़े में बिना छिद्र को बंद किये पानी भरने के समान अथवा वृक्ष को सुरक्षित रखने के लिए फल पत्तों पर पानी देने के समान अदूरदर्षिता पूर्ण आचरण होता है। जिस प्रकार वृक्ष की सुरक्षा हेतु उसकी जड़ों में पानी देना आवश्यक होता है, ठीक उसी प्रकार पेंक्रियाज द्वारा इंसुलिन अथवा पाचक रस बनाने अथवा कम बनाने के कारणों को दूर कर तथा इंसुलिन की आवश्यकता कम कर उसके सहयोगी अंगों से तालमेल एवं सहयोग लेकर मधुमेह को नियन्त्रित रखा जा सकता है। उसके दुष्प्रभावों से बचा जा सकता है। अतः जो मधुमेह से बचना चाहें, उन्हें निम्न बातों का विशेष पालन करना चाहिए।

शरीर में अधिकांश कार्यो की वैकल्पिक व्यवस्था होती हैः

 शरीर में कोई अंग, उपांग, अवयव पूर्ण रूप से अकेला कार्य नहीं करता। उसके कार्य में प्रत्यक्षपरोक्ष रूप से शरीर का कोई कोई अन्य अवयव अवश्य सहयोग करता है। उसके आंशिक विकल्प के रूप में कार्य करता है। शरीर में पेंक्रियाज एक अन्तःस्रावी ग्रन्थि है। सारी ग्रन्थियाँ सामूहिक जिम्मेदारी, तालमेल और आपसी समन्वय से कार्य करती हैं। अतः पेन्क्रियाज की गड़बड़ी होने पर अन्य ग्रन्थियों को अधिक कार्य करना पड़ता है। अतः यदि किसी विधि द्वारा पेंक्रियाज के साथसाथ अन्य ग्रन्थियों को सक्रिय कर दिया जाये तो मधुमेह से मुक्ति मिल सकती है। चीनी पंचतत्त्व के सिद्धान्तानुसार पेंक्रियाज, तिल्लीआमाशय परिवार का सदस्य होता है। अर्थात् पेंक्रियाज की गड़बड़ी का तिल्ली पर सीधा प्रभाव पड़ता है। अतः यदि तिल्ली बियोल मेरेडियन में किसी विधि द्वारा प्राणऊर्जा का प्रवाह बढ़ा दिया जाये तो पेन्क्रियाज की कार्य क्षमता ठीक हो सकती है।

 तिल्ली का आमाशय पूरक (यांग) अंग होता है। अतः पेंक्रियाज  के बराबर कार्य करने से तिल्लीआमाशय का संतुलन बिगड़ जाता है। पाचन तंत्र बराबर कार्य नहीं करता। अतः पाचन के नियमों का दृढ़ता से पालन कर पाचन तंत्र की कार्य प्रणाली सुधारी जा सकती है जिससे पाचन हेतु अधिक इंसुलिन की आवश्यकता नहीं पड़ती।

 हृदय, तिल्ली का मातृ अंग होता है और फेफड़ा पुत्र अंग। तिल्ली, यकृत से नियन्त्रित होती है और गुर्दो को नियन्त्रित करती है। अतः पेंक्रियाज के बराबर कार्य करने से प्रत्यक्ष अथवा परोक्ष रूप से हृदय, फेफड़े, गुर्दे, यकृत आदि भी प्रभावित हो सकते हैं, जिसका प्रभाव उनके पूरक (यांग) अंगों छोटी आंत, बड़ी आंत, मूत्राशय और पित्ताशय पर भी पड़ सकता है। जो अंग जितनाजितना असक्रिय होता है, उसी के अनुपात में उससे संबंधित रोगों के लक्षण प्रकट होने लगते हैं। इसी कारण सभी मधुमेह के रोगियों के बाह्य लक्षण एक जैसे नहीं होते।

 किसी को भूख और प्यास अधिक लगती है, तो किसी को अधिक पेशाब। किसी की त्वचा खुश्क एवं खुरदरी हो जाती है या चर्म रोग होते हैं तो किसी के बाल झड़ने लगते हैं। किसी में यकृत, गुर्दो, हृदय या फेफड़ों संबंधित रोगों के लक्षण प्रकट होने लगते हैं। यदि लक्षणों के आधार पर संबंधित अंगों में प्राणऊर्जा के प्रवाह को बियोल ऊर्जा संतुलन पद्धति द्वारा संतुलित कर दिया जाये तो असाध्य समझा जाने वाला मधुमेह चंद दिनों में ही बिना दवा ठीक किया जा सकता है। अतः सभी मधुमेह के रोगियों के लिये एक जैसा उपचार कैसे संभव हो सकता है?

मधुमेह से मुक्ति हेतु पाचन तंत्र के  नियमों का पालन आवश्यक

 करोड़पति पिता का पुत्र यदि व्यर्थ धन का अपव्यय करे तो अधिक परेशानी नहीं होती परन्तु उसकी देखादेखी उसका गरीब मित्र भी धन का अपव्यय करने लगे तो उसको कठिनाई हो सकती है। इंसुलिन का कार्य भोजन के पाचन में सहयोग करना होता है। अतः मधुमेह का रोगी यदि पाचन के नियमों का दृढ़ता से पालन करे एवं उपलब्ध सीमित इंसुलिन की मात्रा का सही उपयोग करे तो इंसुलिन की कमी से होने वाले दुष्प्रभावों से सहज बचा जा सकता है।

सही समय पर भोजन करें

 जब प्रकृति से आमाशय और पेंक्रियाज/तिल्ली समूह में अधिकतम प्राण ऊर्जा का प्रवाह हो, अर्थात् जब वे दिन में सर्वाधिक सक्रिय हों, उस समय मधुमेह के रोगियों को अपना मुख्य भोजन अवश्य कर लेना चाहिए, ताकि उसका सहजता से पाचन हो सके।

पाचन के नियमों का पालन करें

 दूसरी बात, मधुमेह के रोगियों को भोजन तनाव रहित वातावरण में धीरेधीरे चबाचबा कर खाना चाहिए जिससे भोजन में थूक और लार मिलने से उसका आंशिक पाचन मुँह में ही सम्पन्न हो सके। आमाशय को पाचन हेतु अधिक ऊर्जा एवं इंसुलिन की आवश्यकता नहीं होती। चबाचबा कर खाना खाना मधुमेह की सर्वोत्तम औषधि है। भोजन सूर्य स्वर में करने तथा भोजन के पश्चात् कुछ  समय वज्रासन में बैठने से पाचन ठीक होता है। साथ ही भोजन करने के लगभग डेढ़ घंटे से दो घंटे तक जब तक पाचन की प्रारम्भिक क्रिया पूर्ण हो जाये, पानी नहीं पीना चाहिए।

पाचन तंत्र को अनावश्यक क्रियाशील रखें

 तीसरी बातमधुमेह के रोगियों को बारबार मुंह में कुछ डालकर पाचन तंत्र को हर समय क्रियाशील नहीं रखना चाहिए अन्यथा मुख्य भोजन के समय पाचन तंत्र पूर्ण क्षमता से कार्य नहीं करता है। सुबह का भोजन यथा संभव जल्दी एवं सायंकाल का भोजन सूर्यास्त के पूर्व कर लेना चाहिये, क्योंकि उसके पश्चात् आमाशय और पेंक्रियाज में प्रकृति से प्राण ऊर्जा का प्रवाह निम्नतम होता है। फलतः आवश्यक इंसुलिन उपलब्ध नहीं होता। यथा संभव दो बार से अधिक पाचन तंत्र को क्रियाशील नहीं करना चाहिए। प्रतिदिन एक समय भोजन करना तथा सप्ताह में एक बार उपवास मधुमेह के रोगियों के लिये बहुत लाभप्रद है।

भोजन में स्वाद का संतुलन रखें

 चौथी बात, भोजन में कड़वे स्वाद वाले पदार्थ जैसे करेला, दाणामेथी, नीम आदि का अधिक प्रयोग करना चाहिये, जिससे पाचन हेतु तापऊर्जा उपलब्ध हो सके। भोजन में मीठे पदार्थो का सेवन जितना कम कर सकें, करना चाहिये, ताकि उनको पचाने हेतु इंसुलिन की कम आवश्यकता पड़े।

सद्साहित्य का स्वाध्याय एवं सम्यक् चिन्तन करें

 तनाव, चिन्ता, भय तथा शारीरिक श्रम का अभाव मधुमेह का मुख्य कारण होता है। मधुमेह का रोगी किसी भी दृष्टि से शारीरिक अथवा मानसिक रूप से अपंग नहीं होता है। अतः उन्हें अपने चिन्तन की दिशा बदल जीवन शैली बदलनी चाहिए। संयमित, नियमित, अनुशासित दिनचर्या से वे जीवन के किसी भी लक्ष्य को प्राप्त कर सकते हैं। मधुमेह के रोगियों को सद्साहित्य का स्वाध्याय, आध्यात्मिक भजनों का गायन श्रवण, ध्यान,मौन एवं सकारात्मक चिन्तन में समय व्यतीत करना चाहिए। सम्यक् चिन्तन ही मधुमेह का स्थायी उपचार होता है।

पेंक्रियाज को सशक्त बनाने के उपायः 

 मधुमेह के अन्य प्रमुख कारण शारीरिक श्रम का अभाव, अप्राकृतिक जीवन शैली और गलत खानपान आदि होते हैं। व्यायाम, आसन, प्राणायाम तथा प्राकृतिक नियमों का यथासंभव पालन कर एवं इन्द्रिय संयम से उन पर नियन्त्रण रखा जा सकता है। मधुमेह के रोगी को अपने आपको अधिकाधिक व्यस्त रखना चाहिए। खुले बदन धूप सेवन से भी ऊर्जा मिलती है।

1.  प्रातःकाल जल्दी उठ शान्त वातावरण में चैतन्य चिकित्सा द्वारा तिल्लीपेंक्रियाज पर दबाव के माध्यम से आवश्यक चेतना पहुँचानी चाहिए। जिससे तिल्ली और पेंक्रियाज शक्तिशाली होते हैं।

2. प्रतिदिन कुछ मिनटों के लिये लगातार मुस्कराने एवं खुलकर हँसने से शरीर में तनाव, भय, नकारात्मक सोच के कारण एकत्रित विजातीय तत्त्व विसर्जित होने लगते हैं।

3. मधुमेह के रोगियों का नाभि केन्द्र प्रायः विकार ग्रस्त हो जाता है। स्पन्दन केन्द्र में नहीं रहता। अतः नाभि केन्द्र को स्वस्थ रखना आवश्यक होता है। जब तक नाभि संतुलित हो जाए, नियमित नाभि का का संतुलन करना चाहिए।

4. मधुमेह सम्बन्धी रोगियों को अपने पैरों, गर्दन और मेरुदण्ड का संतुलन नित्य परीक्षण कर ठीक रखना चाहिए।

5.  पेंक्रियाज और तिल्ली डायाफ्राम के नीचे बांयीं तरफ शरीर में स्थित होते हैं। अतः वहां पर दाणा मैथी का स्पर्श रखने से पेंक्रियाज की ताकत बढ़ती है।

6. प्रातःकाल उदित सूर्य को चन्द मिनटों तक देखना एवं उषापान से मधुमेह के रोगियों को बहुत लाभ होता है।

7.  चुम्बक का सक्रिय दक्षिणी ध्रुव तिल्लीपेक्रियाज पर आवश्यकतानुसार कुछ समय स्पर्श करने से उसकी ताकत बढ़ती है।

8. सूर्यमुखी तेल के गंडूस से रक्त का शुद्धिकरण होता है, फलतः मधुमेह ठीक होता है।

9.  मधुमेह के रोगी को प्राणमुद्रा एवं नमस्कार मुद्रा का अधिकाधिक अभ्यास करना चाहिए।

10.  हथेली और पगथली में एक्युप्रेशर के सभी संवेदनशील प्रतिवेदन बिन्दुओं पर दबाव देना चाहिए, परन्तु पेंक्रियाज, तिल्ली, लीवर, गुर्दों तथा सभी अन्तःस्रावी ग्रन्थियों के मुख्य बिन्दुओं पर विशेष एकाग्रता पूर्वक एक्युप्रेशर करना चाहिए।

11.  तिल्ली बियोल मेरेडियन में ऊर्जा का प्रवाह बढ़ाना चाहिए जिससे पेंक्रियाज में भी अधिक ऊर्जा पहुँचती है।

12. मधुमेह के रोगियों को कार्य के अनुरूप स्वर संचालन हेतु विशेष सजगता रखनी चाहिये।

13.  रोगी को अपने स्वमूत्र का पान करना चाहिए, जिससे शरीर के अन्दर के सारे विकार दूर हो जाते हैं। प्रायः मधुमेह वालों को यह आशंका रहती है कि उनके मूत्र के साथ शर्करा का विसर्जन होता है, अतः उसको कैसे लिया जा सकता है? परन्तु शिवाम्बु चिकित्सा में रोगी का अपना शिवाम्बु ही उसके रोग की रामबाण दवा होती है। शिवाम्बु का तर्कसंगत सद्साहित्य पढ़ने से उसके प्रति मन की सारी भ्रान्तियाँ दूर हो जाती हैं। जिस प्रकार जौहरी ही रत्नों की पहचान कर सकता है, इंजीनियर आदि अन्य व्यक्ति नहीं। ठीक उसी प्रकार जैसी चिकित्सा करनी है, उसी के अनुभवी चिकित्सक का परामर्श महत्त्वपूर्ण होता है, अन्य का नहीं।

14.  मधुमेह के रोगियों के लिए पथ्य अपथ्य का विवेक औषधि एवं उपचारों से श्रेष्ठ होता है।

 यदि उपर्युक्त नियमों की पालना की जाए तो मधुमेह जैसा असाध्य रोग चन्द दिनों में ही नियन्त्रण में आकर समाप्त हो जाता है।

 मधुमेह शारीरिक से ज्यादा मानसिक रोग है। आधुनिक चिकित्सकों द्वारा उसको असाध्य बतलाने के कारण, रोगी यह स्वीकार करने को तैयार नहीं होता कि मधुमेह ठीक भी हो सकता है। अनेक रोगियों का उपचार करते समय मैंने प्रायः ऐसा अनुभव किया कि उपचार के पश्चात् मधुमेह के सारे लक्षण दूर हो जाने के बावजूद रोगी अपने आपको मधुमेह का रोगी मानते रहते हैं। एक बार चिकित्सक द्वारा मधुमेह की घोषणा करने के पश्चात् अपना नियमित परीक्षण करवाते रहते हैं और परीक्षणों में मधुमेह के लक्षण आने के बावजूद बहुत से रोगी दवा की दासता नहीं छोड़ते। परन्तु जो सम्यक् चिन्तन और वैज्ञानिक तर्कों के आधार पर रोग के मूल कारणों को समझ स्वावलम्बी उपचारों की प्रामाणिकता से अपना विवेक जागृत कर लेते हैं, उन्हें स्थायी रूप से दवाओं से मुक्ति मिलती है।

 कहने का आशय यह है कि मधुमेह का प्रभावशाली उपचार स्वावलम्बी चिकित्सा पद्धतियों में सम्भव होता है, क्योंकि वहाँ पर रोग के मूल कारणों को दूर किया जाता है कि, बाह्य माध्यम द्वारा इंसुलिन की पूर्ति कर रोग के मुख्य कारणों की उपेक्षा की जाती है। फैसला आपके हाथ में है, जीवन भर दवाइयाँ खाकर मधुमेह के रोगी बने रहें अथवा स्वावलम्बी उपचारों के द्वारा उससे अपने आपको मुक्त करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *