उपचार

  1. नकारात्मक भावों का शरीर के विभिन्न अंगों पर दुष्प्रभाव
  2. आवेगों को नियन्त्रित करने का सरल उपाय
  3. बिना दवा दांतों के दर्द का उपचार
  4. नमस्कार मुद्रा द्वारा उपचार
  5. गणेश क्रिया
  6. नाभि का संतुलन
  7. एक जैसे लक्षणों का संबंध शरीर के अलग-अलग अंगों से हो सकता है
  8. स्वायसों व्यायाम द्वारा उपचार
  9. मूक हंसी द्वारा उपचार
  10. मैथी स्पर्श द्वारा उपचार
  11. शिवाम्बु (स्वमूत्र) से रोगोपचार
  12. रिफ्लेक्सोलोजी एक्युप्रेशर द्वारा उपचार
  13. सुजोक एक्युप्रेशर द्वारा उपचार
  14. साधारण स्थिति में ऊर्जाओं के संतुलन द्वारा प्रभावशाली रोगोपचार
  15. सक्रामक एवं तीव्र रोगों में 6 चुम्बक पद्धति द्वारा रोगोपचार करने की विधि
  16. ऊर्जा संतुलन द्वारा स्वभाव में परिवर्तन (प्रथम)
  17. ऊर्जा संतुलन द्वारा स्वभाव में परिवर्तन (द्वितीय)
  18. ऊर्जा संतुलन द्वारा स्वभाव में परिवर्तन (तृतीय)
  19. मेरुदण्ड की क्षमता के परीक्षण की विधि
  20. मेरुदण्ड के व्यायाम
  21. पैरों को बराबर करने की विधि
  22. गर्दन का संतुलन
  23. मेरुदण्ड का संतुलन
  24. खिंचाव द्वारा उपचार
  25. प्रभावशाली आसन (प्रथम)
  26. प्रभावशाली आसन (द्वितीय)
  27. चन्द प्रभावशाली प्राणायाम
  28. त्रिबंध द्वारा रोगोंपचार
  29.  पंच ऊर्जाओं द्वारा मानसिक समस्याओं का समाधान
  30. सभी हृदय रोगियों को शल्य चिकित्सा की आवश्यकता नहीं होती।
  31. बिना दवा मधुमेह (डायबिटीज) का प्रभावशाली उपचार संभव है
  32. स्वास्थ्य का मूलाधार अन्तःश्रावी ग्रन्थियां (प्रथम)
  33. स्वास्थ्य का मूलाधार अन्तःश्रावी ग्रन्थियां (द्वितीय)
  34. स्वास्थ्य का मूलाधार अन्तःश्रावी ग्रन्थियां (तृतीय)
  35. स्वास्थ्य का मूलाधार अन्तःश्रावी ग्रन्थियां (चतुर्थ)
  36. चुम्बक द्वारा रोगोपचार